» आलेख
लॉकडाउन से आपके मानसिक स्वास्थ्य के लक्षणों के जोखिम को बहुत तेज़ी से बढ़ाया :रिपोर्ट
Go Back | Yugvarta , Apr 13, 2022 09:45 PM
0 Comments


0 times    0 times   

News Image Delhi : 
गैरी करंतजस, एसोसिएट प्रोफेसर इन सोशल साइकोलॉजी/रिलेशनशिप साइंस, डीकिन यूनिवर्सिटी विक्टोरिया (ऑस्ट्रेलिया), 13 अप्रैल (द कन्वरसेशन) लगभग दो वर्षों में बार-बार होने वाले लॉकडाउन के दौरान, लोगों को घर पर और दोस्तों तथा परिवार से दूर रहने पर मजबूर होना पड़ा, जिससे उनके मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों के बारे में कई अलग-अलग वर्गों से बहुत सी चिंताएं सामने आईं।

मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों के पैमाने को मापने के प्रयास के लिए कई शोध परियोजनाएं शुरू की गईं। हालाँकि, जितनी तेजी से शोध का यह काम शुरू हुआ था, उससे लग रहा था कि कुछ मामलों में, शोध की गुणवत्ता पर इसका असर जरूर पड़ेगा, और इसका नतीजा यह हुआ कि कुछ शोधों में मानसिक स्वास्थ्य पर लॉकडाउन के प्रभाव के प्रमाण मिले, और कुछ में नहीं।

शोध के बहुत मिश्रित निष्कर्षों को समझने के लिए, मैंने और मेरे सहयोगियों ने महामारी के पहले वर्ष के दौरान मानसिक स्वास्थ्य पर किए गए सभी अध्ययनों की समीक्षा की। हमने इसमें 33 प्रकाशित पत्र शामिल किए, जिसमें विभिन्न विश्व क्षेत्रों में कुल लगभग 132,000 लोगों का अध्ययन किया गया। हमने पाया कि कुल मिलाकर, सामाजिक प्रतिबंधों ने लोगों के मानसिक स्वास्थ्य लक्षणों का अनुभव करने की संभावना को दोगुना कर दिया।

इसका मतलब यह है कि जिन लोगों ने इन अध्ययनों में भाग लिया, उनमें से जिन लोगों ने लॉकडाउन का अनुभव किया था, उन लोगों की, जिन्होंने इसका अनुभव नहीं किया, तुलना में मानसिक रूप से बीमार होने की संभावना दोगुनी थी।

विभिन्न मानसिक स्वास्थ्य लक्षणों से इस खोज का और गहराई तक अध्ययन किया जा सकता है। यह देखा गया कि सामाजिक प्रतिबंधों के दौरान लोगों को अवसाद के लक्षणों में 4.5 गुना से अधिक की वृद्धि का अनुभव हुआ, तनाव का अनुभव करने की संभावना लगभग 1.5 गुना बढ़ गई, और अकेलेपन का अनुभव करने की संभावना लगभग दोगुनी हो गई।

जब हमने इन परिणामों को और गहराई से जाना, तो हमने पाया कि लॉकडाउन की अवधि और सख्ती ने मानसिक स्वास्थ्य के लक्षणों को अलग तरह से प्रभावित किया। उदाहरण के लिए, सख्त लॉकडाउन ने अवसाद को बढ़ा दिया, जबकि सामाजिक प्रतिबंधों की शुरुआत ने तनाव को बढ़ा दिया। कम सामाजिक प्रतिबंध, जहां कुछ प्रतिबंध थे, लेकिन पूर्ण लॉकडाउन नहीं, चिंता में वृद्धि के साथ जुड़े थे। इसके अलावा, मानसिक स्वास्थ्य के परिणाम उम्र के अनुसार भिन्न नजर आए, युवा और अधेड़ आयु वर्ग के वयस्कों में वृद्धों की तुलना में अधिक नकारात्मक मानसिक स्वास्थ्य लक्षण पाए गए।

इन निष्कर्षों से हम क्या सबक ले सकते हैं? यह निष्कर्ष हमें यह सोचने का एक अच्छा अवसर देते हैं कि भविष्य में महामारियों की स्थिति में सार्वजनिक स्वास्थ्य का स्वरूप कैसा होना चाहिए। मानसिक स्वास्थ्य पर लॉकडाउन के प्रभावों में कम प्रतिबंध लागू किए जाने पर चिंता सबसे अधिक प्रचलित लक्षण था। यह इस तथ्य के कारण हो सकता है कि लोग स्थिति की अनिश्चितता और वायरस फैलने की आशंका से घबराए हुए थे। ऐसे उपायों को लागू करते समय यह जरूरी है कि सार्वजनिक स्वास्थ्य से जुड़े और बीमारी के बारे में जानकारी भरे संदेश भी जारी किए जाएं ताकि भय और चिंता को कम किया जा सके।

सख्त सामाजिक प्रतिबंधों की अवधि के दौरान, प्रमुख मानसिक स्वास्थ्य मुद्दा अवसाद था, जिसका अर्थ है कि ऐसी स्थिति में मानसिक स्वास्थ्य प्रतिक्रियाओं को निराशा से संबंधित लक्षणों जैसे नाउम्मीदी और बेमकसद होने की भावना का मुकाबला करने पर ध्यान देना चाहिए। तनाव के जुड़े अध्ययनों के निष्कर्ष बताते हैं कि सामाजिक प्रतिबंध लागू करने के शुरुआती चरणों के दौरान लक्षण तेज होने की संभावना है।

यह शायद इसलिए है क्योंकि प्रतिबंधों की शुरुआत लोगों को महामारी के खतरे की गंभीरता में वृद्धि का संकेत देती है, और लोगों को अपने जीवन को फिर से व्यवस्थित करने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है यदि प्रतिबंधों में घर से काम करने और घर में ही बच्चों की स्कूलिंग की आवश्यकता शामिल है।

ऐसे समय में, लोगों को अपने तनाव को प्रबंधित करने में मदद करने वाले संदेश और उपाय प्रदान करना, जैसे कि काम के तनाव या घर पर स्कूली बच्चों के तनाव से निपटना, विशेष रूप से महत्वपूर्ण हो सकता है। माता-पिता के लिए, उन्हें घरेलू कक्षा में सक्षम महसूस कराने और सकारात्मक पारिवारिक कामकाज को बढ़ावा देने वाली रणनीतियों को बढ़ावा देना (जैसे कि अधिक रचनात्मक संवाद और समस्या-समाधान) माता-पिता और पारिवारिक तनाव को कम कर सकता है।

यह देखते हुए कि सामाजिक प्रतिबंधों को अकेलेपन में वृद्धि के साथ जोड़ा गया था, लोगों को जुड़ाव महसूस कराने के लिए डिजिटल तकनीकों को बढ़ावा देना भी महत्वपूर्ण है। इन सभी मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों में, इन लक्षणों को संप्रेषित करने वाले संदेशों की अपेक्षा की जाती है कि वे व्यक्तियों को उनके लक्षणों की प्रकृति और गंभीरता को सामान्य करने और स्वीकार करने में मदद करें।

यह, बदले में, लोगों को अपने मानसिक स्वास्थ्य लक्षणों पर काबू पाने के संबंध में मदद लेने के लिए प्रेरित कर सकता है।
  Yugvarta
Previous News Next News
0 times    0 times   
(1) Photograph found Click here to view            | View News Gallery


Member Comments    



 
No Comments!

   
ADVERTISEMENT




Member Poll
कोई भी आंदोलन करने का सही तरीका ?
     आंदोलन जारी रखें जनता और पब्लिक को कोई परेशानी ना हो
     कानून के माध्यम से न्याय संगत
     ऐसा धरना प्रदर्शन जिससे कानून व्यवस्था में समस्या ना हो
     शांतिपूर्ण सांकेतिक धरना
     अपनी मांग को लोकतांत्रिक तरीके से आगे बढ़ाना
 


 
 
Latest News
भारत की अर्थव्यवस्था का आधार रहा है
योगी 2.0 के 6 माहः जो कहा
जब देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने
गौरी खान ने दिया बेटे आर्यन को
Ind vs Aus 2nd T20I Live: दूसरे
आरक्षी पुलिस भर्ती परीक्षा-2009-10 के हजारों अभ्यर्थियों
 
 
Most Visited
मेक्सिको की Andrea Meza बनी Miss Universe
(4154 Views )
यूपी में टेस्टिंग बढ़ी, एक्टिव केस घटे,
(3411 Views )
CBSE Board Exam Date: सीबीएसई ने बदली
(2469 Views )
UP Board Exam 2021: यूपी बोर्ड परीक्षा
(1486 Views )

(1437 Views )
CM योगी आदित्यनाथ ने चैरी-चैरा की
(970 Views )